हजारों महफिल है लाखों मेले हैं पर जहां तुम नहीं वहां हम अकेले हैं