संगमरमर के महल में तेरी तस्वीर सजाऊंगा, अपने इस दिल में तेरे ही ख्वाब जगाऊंगा, यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा, मैं तो प्यार का हूँ प्यासा तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा।


संगमरमर के महल में तेरी तस्वीर सजाऊंगा,
अपने इस दिल में तेरे ही ख्वाब जगाऊंगा,
यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा,
मैं तो प्यार का हूँ प्यासा तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा।

???????????????
कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा,
खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा,
इश्क़ की आग में उसको इतना जला देंगे,
कि इज़हार वो मुझसे सर-ए-बाजार करेगा।

???????????????

मेरी हर नज़र में बसी है तू,
मेरी हर क़लम पे लिखी है तू,
तुझे सोच लूँ तो ग़ज़ल मेरी,
न लिख सकूँ तो वो ख्याल है तू ।

???????????????

जी चाहे की दुनिया की हर एक फ़िक्र भुला कर,
दिल की बातें सुनाऊं तुझे मैं पास बिठाकर।

???????????????

ऐसा क्या लिखूँ की तेरे दिल को तस्सली हो जाए,
क्या ये बताना काफी नहीं की मेरी ज़िन्दगी हो तुम।

???????????????

हम दिलफेक आशिक़ हर काम में कमल कर दे,
जो वादा करे वो पूरा हर हाल में कर दे,
क्या जरुरत है जानू को लिपस्टिक लगाने की,
हम चूम-चूम के ही होंठ लाल कर दें।

???????????????

बड़ा मज़ा आता है उसे बार-बार मुझे सताने में,
क्यो भूल जाती है कि नहीं मिलेगा,
कोई मुझसा चाहने वाला इस जमाने में,
नहीं आए यकीं तो फिर आज़माकर देख लेना
कुछ बात अलग है इस दीवाने में,
तारीफ नहीं करता खुद की… मगर ये सच है…
कोई कसर नहीं छोडूंगा तेरा साथ निभाने में।

???????????????


​आपसे रोज़ मिलने को दिल चाहता है​​,​
​कुछ सुनने सुनाने को दिल चाहता है​​,​
​था आपके मनाने का अंदाज़ ऐसा​​,​
​कि फिर रूठ जाने को दिल चाहता है​।

???????????????

चलते चलते राह में उन से मुलाकात हुई,
वो कुछ शरमाई फिर सहम सी गई,
दिल तो हमारा भी किया कि कह दे उनसे
अपने दिल की बात…
पर कम्बखत इस दिल की इतनी हिम्मत ही न हुई.

???????????????

सपनों की दुनिया में हम खोते चले गए,
मदहोश न थे पर मदहोश होते चले गए,
ना जाने क्या बात थी उस चेहरे में,
ना चाहते हुए भी उसके होते चले गए।


तेरे हर गम को अपनी रूह में उतार लूँ,
ज़िन्दगी अपनी तेरी चाहत में संवार लूँ,
मुलाकात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी,
सारी उम्र बस एक मुलाकात में गुज़ार लूँ।

???????????????


चाहा है तुम्हें अपने अरमान से भी ज्यादा,
लगती हो हसीन तुम मुस्कान से भी ज्यादा,
मेरी हर धड़कन हर साँस है तुम्हारे लिए,
क्या माँगोगे जान मेरी जान से भी ज्यादा।

???????????????
अपने दिल की जमाने को बता देते हैं,
हर एक राज से परदे को उठा देते हैं,
आप हमें चाहें न चाहें गिला नहीं इसका,
जिसे चाह लें हम उसपे जान लुटा देते हैं।

???????????????
आ जाओ किसी रोज तुम्हारी रूह मे उतर जाऊँ,
साथ रहूँ मैं तुम्हारे ना किसी और को नज़र आऊँ,
चाहकर भी मुझे छू ना सके कोई इस तरह,
तुम कहो तो यूँ तुम्हारी बाहों में बिखर जाऊँ।

???????????????

???????????????

???????????????


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: