ज़िंदगी के मायने तुझसे है… ज़िंदगी की ख्वाशें तुझसे है.. तू क्या जाने तू क्या है मेरे लिए… मेरी हर साँस का वजूद तुझसे है

क्यूँ हम किसी के ख़यालो मे खो जाते है एक पल की दूरी मे रो जाते है.. कोई हमे इतना बता दो कीहम ही ऐसे है या प्यार करने के बाद सब ऐसे हो जाते है.

???????????????

ये ज़िंदगी तब हसीन होती है… जब हर दुआ कबूल होती है कहने को तो सब अपने है… पर काश कोई ऐसा हो जो ये कहे तेरे दर्द से मुझे भी तकलीफ़ होती है…

????????????????

ज़िंदगी के मायने तुझसे है… ज़िंदगी की ख्वाशें तुझसे है.. तू क्या जाने तू क्या है मेरे लिए… मेरी हर साँस का वजूद तुझसे है

????????????????

तन्हाईओं मे उनको ही याद करते हैं वो सलामत रहें यही फरियाद करते हैं हम उनके ही मोहब्बत का इंतेज़ार करते हैं उनको क्या पता हम उनसे कितना प्यार करते हैं.

????????????????

खुदा कैसे करूँ शुक्रिया इस दिन के लिए. जिस दुनिए तुम्हे धरती पे भेजा हमारे लिए. ना जाने क्यों मैं इंतेज़ार कर रहा था शायद जन्मदिन है तुम्हारा इस लिए. मेरी हर एक दुआ है

????????????????

उन्हे दिन रात किया करते थे अब उन राहों से गुज़रा नही जाता जहाँ बैठ कर उनका इंतेज़ार किया करते थे.

????????????????

वही उम्मीद वही इंतेजार तेरा करते हैं उसी इश्क़ से उसी चाहत से उसी प्यार से उसी मान से मुझे आज फिर से मिल जाओ की मन बहुत दीनो से उदास हैं.

????????????????

इतना ऐतबार तो अपनी धड़कनो पर भी हमने ना किया जितना आपकी बातों पर करते हैं; इतना इंतेज़ार तो अपनी साँसों का भी ना किया जितना आपके मिलने का करते हैं!

????????????????

उसकी दर्द भारी आँखों ने जिस जगह कहा था अलविदा; आज भी वही खड़ा है दिल उसके आने के इंतेज़ार में!

???????????????

ज़ख़्म इतने गहरे है हमको मालूम ना था हम खुदी पर वार करते रहे यह ख़याल ना था खुद ही लाश बन गये इस ख़याल से के जनाज़े पे वो मेरे आएँगे अब इस से ज़्यादा उनके दीदार का इंतिज़ार क्या करे.

????????????????

होश जब तक रहेगा राह तेरी देखूंगी दर्द से होश ना जाएगी मेरा क्या होगा जानती हूं मेरे दामन में तेरी खुशियां हैं मेरा दामन जो छूट जाए तेरा क्या होगा

????????????????

ज़िंदगी हसीन है इससे प्यार करो… हर रात की नई सुबा का इंतजार करो वो पल भी आएगा जिसका आपको इंतजार है बस अपने रब पर भरोसा और वक़्त पर ऐतबार करना…

????????????????

मेरी ज़िंदगी तो आप है कहाँ जी रहे है हम आप के बिना अब तो मौत को सीने से लगाने की इंतेज़ार मे बैठे है हम

????????????????

??तन्हैइिओं मे उनको ही याद करते हैं वो सलामत रहे यही फरियाद करते है हम उनके ही मोहब्बत का इंतेज़ार करते है उनको क्या पता हम उनसे कितना प्यार करते है .??

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: