जब राम ने दिया है रूप तुझ

एक परी के जख्मों पर मरहम लगाने हम गए हो तो अच्छी हो गई पर मुफ्त में मरहम गए

????????????????????????????????

बड़ी मुश्किल से हमने एक को अपना बनाया था उसी ने भेज दी राखी की जिससे दिल लगाया था

????????????????????????????????

हम वह नहीं जो तुम्हे कम है छोड़ते हैं हम वो नहीं जो तुझ से नाता तोड़ लिया वह तुम्हारे वह दोस्त हैं जो तुम्हारी सांसे बंद हो तो अपनी सांसे छोड़ द?????????????????????????

आपको मिस करना रोज की बात है आप याद करना आदत की बात है आप से दूर रहने किस्मत की बात है मगर आप कुछ बोल नहीं मत की बात है

????????????????????????????????

क्या मुझसे नाराज होकर क्या मोहब्बत करने की सजा दे रही हो क्या जान मजनू इश्क के दरिया में डूबा हुआ है और तू किनारे बैठ का मजा ले रही हो

????????????????????????????????

जो जैसा करता है उसको ऐसा सजा पाना ही है इस दुनिया में आई हो तो थोड़ा मोहब्बत भी कर लो आखिरी एक दिन तो जाना ही

????????????????????????????????

मैं तेरा दीवाना बन कर तुझे पाने को ख्वाबों में भटक रहा है पर्दा नशी तू पर्दे में बैठी है और मैं यहां यादव के फंदे पर लटक रहा हूं

????????????????????????????????

मेरे ख्याल से खुदा ने तुझे रविवार को बनाया होगा और सब को बनाया है 2 मिनट मिट्टी से तो तेरे लिए चिकनी मिट्टी होगा

????????????????????????????????

जब राम ने दिया है रूप तुझ को तो छुपा क्यों रहे हो अरे जालिम मोहब्बत करनी ही थी तो एक से करती हजारों से लुटा क्यों रही हो

????????????????????????????????

मैं तेरा ही रहूंगी का कर दिल को करार दी हमने तेरी याद में जिंदगी गुजार दी लेकिन मेरे सपनों को तूने तोड़ दिया है सच-सच बता तेरे बीच में यह कौन सी

????????????????????????????????

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: