चांदनी रात की बात, निराली होती है। वाली के रूठने पर तैयार साली होती है ।

चांदनी रात की बात, निराली होती है।
वाली के रूठने पर तैयार साली होती है ।

जीजा के लिए साली बेकरार हो गई ।
चुपके

शहर की लड़कियां, दिलफेंक होती है ।
गांव की लड़कियां दिलनेक होती है ।

शहर की लड़कियां सीना तान के चलती
हुस्न का जलवा दिखाने को, जान के चलती है ।

पिंकु भैया जी, हमारे कमाल के भईया हैं ।
जब लाईन भाभी जी के, डिस्को सईयां हैं ।।

तेरा प्यार मुझे मिलेगा, तब जाके अंधियारी खतम होगी
सब कुछ होगा रानी, जब तू मेरे दिल में प्यार से जप्त होगी

इश्क का रोगी हूं, नाम है मेरा इश्कबाज !
दिल का दवा बता दे, न कर हुस्न पे नाज ॥

एगी ।
माऐगी?

तहे दिल से तुझे चाहता हूँ,

ऐ हस्न परी शहजादी ।
तमन्ना है मेरे चंचल मन की,

तुझी से करू शादी ।

चुपके हम दोनों में प्यार हो गई ।।

जीजा साली का प्यार, महान होता है ।
भगवान का दिया, वरदान होता है ॥

साली के बिना जीजा का दिल, लग नहीं सकता।
जीजा साली के दिल की बात, किसी से कह नहीं सकता

पाली, जीजा के वास्ते वफादार होती है ।
पाली की पतली कमर लचकदार होती है ।

अरे दिल की पहलू में, साली जी आ जाओ ।
मन के आंगन में आके खुव मुस्कुराओ ।

धीरे-धीरे चलो साली,

पतली कमर तेरी बल खा जाएगी ।

दिल नाजुक है बिजली न गिराना,
दिल जला जाएगी ।

बिस्तर पे करवट लेता हूँ रातों में,
सोचता हूँ तेरे ही बारे में।
किस तरह जंग लड़े थे हम दोनों,
सपने वाली अखाड़े में ।

दिन को सोना, रात को जगना ।
मुण्डे की आदत है, कड़ियों के पीछे दौड़ना
आज के मुंडे डिस्को करने जाते हैं ।
पीते हैं खाते हैं, खूब मौज उड़ाते हैं ।
आज के मुंडे स्विमिंग पूल में नहाते हैं ।
लड़कियों के जिस्म से जाकर चिपक जाते हैं “

दिलबर की आंखों से पीलो, जब आये मौसम पीने का ।
जिन्दगी है चार दिन का दोस्तों, मजा ले लो जीने का ।।

ए हुस्न परी तु अपनी, जुल्फों के साये में रहने दे ।
तेरे से दिल की बात कहना है, कुछ कुछ कहने दे ।

जब दो दिल पे मस्ती छाती है।
दोनों को खुब मजा आती है ।।

बयुओं फिल्म देखिये जरूर इंगलिश बाबू देशी मेम ।
शाहरूख बने मयूर, सोनाली बेंद्रे का बिजुरिया है नेम ॥

शत्रुघन सिन्हा को सभी कहते हैं “बिहारी बाबू”।
सैकड़ों हीरोइन कभी होने लगी थी उनके लिए बेकाबू ॥

धोती कुर्ता पहनके “साजन चले ससुराल ।
साली सरहज के वीच पडे तो बुरा हुआ हाल ॥

दिवाना है सनम गोरे गाल का मेरा मन ।
खूबसूरत होता है उम्र सोलह साल का जोवन

दूल्हा बन जाऊंगा, सनम को दुल्हन बनाऊंगा ।
सनम को सुहागन बनाकर, अपने घर लागा ।।

मेरी प्यारी प्यारी तैयार है।
हों तो उसी से प्यार है 11
मस्ती है समन के अंग अंग में,
सनम का हुस्न-ए-शय हैं ।
मुझे पता है, वो चंचल मन को ख्वाब हैं
मेरी दुल्हन बनके, वो आएगी ।
खुशियों का खजाना लुटाया ।
अरपूर सेवा ६.गी, धर्मपाल कहलाएगी ।
सुबह शाम है पल हमसे यारों इश्क फरमाएंगी ।
दियानी सनम कमसिन और लाजवाब है ।
हो पता, वो चंचल मन की खाई है ।
चनके मेरी मुझे खुश कर देगी।
भेरे तन मन में प्यार भर देगी ।
के दादरी सनम के संग जुस्तजू ।
कह रहा है कहता रहेगा, दिल आई लभ प


के बदन सनम का, जैसे महकता गुलाब है।
ही पता है यारों वो चंचल मन की ख्वाब है ॥

शहर की लड़कियां, दिलफेंक होती है ।
गांव की लड़कियां दिलनेक होती है ।

शहर की लड़कियां सीना तान के चलती
हुस्न का जलवा दिखाने को, जान के चलती है ।

पिंकु भैया जी, हमारे कमाल के भईया हैं ।
जब लाईन भाभी जी के, डिस्को सईयां हैं ।।

तेरा प्यार मुझे मिलेगा, तब जाके अंधियारी खतम होगी
सब कुछ होगा रानी, जब तू मेरे दिल में प्यार से जप्त होगी

इश्क का रोगी हूं, नाम है मेरा इश्कबाज !
दिल का दवा बता दे, न कर हुस्न पे नाज ॥

एगी ।
माऐगी?

तहे दिल से तुझे चाहता हूँ,

ऐ हस्न परी शहजादी ।
तमन्ना है मेरे चंचल मन की,

तुझी से करू शादी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: