क्या खूब कहा है किसी ने दिल किताब से लगाना दोस्तों अगर बेबफा भी हुई तो काबिल बना कर छोड़ेगी

क्या खूब कहा है किसी ने दिल किताब से लगाना दोस्तों
अगर बेबफा भी हुई तो काबिल बना कर छोड़ेगी

तुजे पाने के लिए गलियों में बदनाम हो गए!
तेरे प्यार में घर वालो को छोड़ कर आये !
अगर पता होता हमे की तू बेवफा निकलेगी
तो तुजे पाने से पहले मोत को गले लगा लेते !!



तू भी बेवफा निकला औरों की तरह, सोचा था !
की हम तुझसे ज़माने की बेवफाई का गिला करेंगे !!


तुझे भूल कर भी ना भूल पाएंगे हम बस यही एक वादा निभा पायेंगे मिटा देंगे खुद को जहां से लेकिन तेरा नाम दिल से कभी मिटा नहीं पाएंगे




तुझे भूल कर भी ना भूल पाएंगे हम बस यही एक वादा निभा पायेंगे मिटा देंगे खुद को जहां से लेकिन तेरा नाम दिल से कभी मिटा नहीं पाएंगे


हमने तो तुमसे प्यार ऐसा किया की शाय़द ही कोई किसी से करें,
और तुमने धोखा ऐसा दिया कि शायद ही कोई किसी को दें,,



बेखबर हो गए हैं कुछ लोग जो हमारी ज़रूरत समझा नहीं करते,
कभी बहुत बातें किया करते थे हमसे अब हम हैं कैसे पूछा नहीं करते





बेखबर हो गए हैं कुछ लोग जो हमारी ज़रूरत समझा नहीं करते,
कभी बहुत बातें किया करते थे हमसे अब हम हैं कैसे पूछा नहीं करते



मोहब्बत के बाद मोहब्बत करना तो मुमकिन है,
लेकिन किसी को टूट कर चाहना,
वो ज़िन्दगी में एक बार ही होता है.


नफरत करने की वजह बता दो Jaan,
वरना मेरी मौत की वजह मेरा प्यार होगा ।।




तुम्हारी दुनिया से जाने के बाद ,
हम सिर्फ तारो में नजर आएंगे।
तुम हर पल कोई दुआ मांग लेना,
हम हर पल टूट जायेंगे।


अगर गैर समझते हो तो हम खुद ही किनारा कर लेंगे अगर खुश हो मेरी बर्बादी पर तो हम यह भी गवारा कर लेंगे एक बार तुम जुबान से कह दो मेरे नहीं किसी और के हो हम फूलों के बदले कांटों पर रह कर गुजारा कर ले गे



टूटे हूए पयाले मे जाम नही आता ।
इकश मे मरिज को आराम नही आता ।
ये बेवाफा दिल तोडने से पहले ये सोच लिया होता ।
कि टूटा हुआ दिल किसी के काम नही आता ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *